सूचना

यह वेब पेज इन्टरनेट एक्सप्लोरर 6 में ठीक से दिखाई नहीं देता है तो इसे मोजिला फायर फॉक्स 3 या IE 7 या उससे ऊपर का वर्जन काम में लेवें

Monday, August 20, 2018

आपा डोलर में हिडांगां आपा चकरी मैं बैठांगा मेला बगड़,लक्ष्य के इंजॉय के कुछ

बगड़ व आस पास के गांवों के लोगो के लिए खुश खबरी बगड़ के श्याम मंदिर के सामने ग्राउंड में रक्षाबंधन ओर जन्माष्ठमी के त्योहारों को मध्यनजर रखते हुए मारवाड़ हैंडी क्राफ्ट एवं उधोग मेले का शुभ आरंभ आज शाम 7 बजे हो चुका है ये मेला 3 सितम्बर चलेगा ये मेला इंडियन मीडिया जर्नलिस्ट यूनियन झुंझुनू के तत्वावधान में लगाया गया है इसे लगवाने में सहयोग भाई विजेंद्र मेहता यूनियन के राजस्थान प्रदेश इकाई के प्रदेश सचिव तथा बलदेव जी सैनी का है इस मेले में आपको एक ही छत के नीचे कई प्रकार की वस्तुएं खरीदने व देखने को मिलेगी जिसमे घरेलू सामान ,चाट व खाने पीने का आइटम खासकर औरतों की जरूरत सम्बन्धी खरीदारी का समान बच्चों के खिलौने व उनके कपड़े आदि उपलब्ध रहेगा। मेले का विशेष आकर्षण बच्चों के कई प्रकार के छोटे बड़े झूले है जिनमे बच्चें झूलकर आनन्द ले सकते है

शहरों में वैसे तो ये झुले मेले आम हो गये हैं पर गांवों में इनका क्रेज अभी भी बाकी है। लोग बड़े चाव से मेला देखने आते हैं और बच्चों को झुले दिलवाने के लिए साथ लाते है। और गांव की औरते भी चकरी डोलर हिण्डे में हिडंने के लिए ललायत रहती है।



हेलिकाप्टर झुले का आनन्द लेते हुए बेटा लक्ष्य

बगड़ मेले में बेटा लक्ष्य विभिन्न प्रकार के झूलो में झूलते हुए ओर पानी मे बोट चलते हुए लक्ष्य के इंजॉय के कुछ पल।
आप घूमे की नही मेले में ??

हेलिकाप्टर झुले का आनन्द लेते हुए बेटा लक्ष्य 
हेलिकाप्टर झुले का आनन्द लेते हुए बेटा लक्ष्य

जीफ गाड़ी झुले का पर मस्ती करते हुए बेटा लक्ष्य

पानी में नाव /बोट चलाने का मजा लुटते हुए बेटा लक्ष्य
जीफ गाड़ी झुले का पर मस्ती करते हुए बेटा लक्ष्य


पानी में नाव /बोट चलाने का मजा लुटते हुए बेटा लक्ष्य
बाईक झुले का मजा लेते हुए















बाईक झुले का मजा लेते हुए
बाईक झुले का मजा लेते हुए
अतः आप सभी से अनुरोध है इस मेले में ज्यादा से ज्यादा पधार कर मेले का लाभ लेवें ओर बच्चों को झूलो का आनन्द दिलावे क्योकि अब आपको इस प्रकार के मेले ओर बड़े झूलो के लिये बड़े शहर 15- 20किमी दूर जाने की जरूरत नही सब कुछ आपके शहर बगड़ में ही उपलब्ध है इस मेले में ।
मेले का एक नज़ारा एक झलक पेश है


आज के लिए इतना ही मिलते है ब्रेक के बाद....



लक्ष्य


Wednesday, August 15, 2018

72 वें स्वतंत्रता दिवस ही हार्दिक शुभकामनाएं

 सभी देश वासियों,मेरे देश के रक्षकों (तीनों सेना के सैनिको ) दोस्तों,ब्लॉग जगत के सभी पाठकों ,ब्लॉग मालिको को स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
सबसे पहले मेरा उन शहीदों को  शत शत नमन जिनकी वजह से आज हम ये स्वतंत्रता दिवस मना रहें है। 
 आज देश 72 वां स्वतंत्रता दिवस मना रहा है।   कहने को तो हम स्वतंत्र है पर क्या सही मायने में हम स्वतंत्र है ?  सबसे पहले आतंकवाद ,जाति वाद,धर्म वाद( धर्म गत राजनीति), भ्रष्टाचार,और घोटाले और बच जाये वो लाल किले की उस पवित्र प्राचीर पर खड़े होकर लम्बी लम्बी बकवाद आज की स्वतंत्रता देखकर उन दिवंगत आत्माओं को भी शर्म आ रही होगी कि उन्होंने इस स्वतंत्रता के लिए अपने प्राण गवायें थे
मन उब गया है ये सब सुनते- सुनते और झेलते- झेलते
इन चार पांच बकवादों के अलावा किसी विषय पर सोच पाया है देश अभी तक शायद नहीं  मै किसी पार्टी विशेष की बात नहीं कर रहा हूं सब पार्टियां एक जैसी है
 सब के पास अपनी रोटी सेकने के लिए इन पांच चार मुद्दों के अलावा कुछ है ही नहीं !!!
इधर देखों चाहें उधर सब घोटाले इन इन हराम खोर नेताओं के ही क्यों हैं ?
क्योकि ये आज भी आम जनता को गुलाम ही समझते हैं और  आपस में हिन्दू मुस्लिम जाट,हरिजन,ब्राह्मण, सिखा आदि का तेल छिड़क कर  बहकाते रहते हैं
और जनता के पैसे से ऐसो आराम करते है।
तो क्या हम स्वतंत्र हुए  नहीं न   क्योंकि गुलाम तो हम आज भी बने हुए हैं पहले अंग्रेजों के थे उनकी ही नीति पर आज इन हराम-खोर नेताओं के बन चुके है।
इसीलिए आज हम और देश सिर्फ कहने मात्र के लिए  स्वतंत्र है। बाकि सब इनके हाथ में  ये अपने स्वार्थ के लिए जब चाहे कानून को तोड़ मरोड़ देते हैं MLA MP नेता अनपढ़ बन सकता हैं सरपंच के लिए 8 वीं 10 वी पास जरूरी है।  वाह देश स्वतंत्र है।  कानून हमारे लिए लागू उनके लिए नहीं ?
वो जेल से चुनाव लड़ सकते  है।  आम आदमी को केस लग जाये तो नोकरी नहीं  वाह ! देश स्वतंत्र है।?
अनपढ़ हम पर राज करें ?और हम पढ़ लिखें आज  अनपढ़ बन कर देखते रहें फिर भी कहेंगे देश स्वतंत्र है?
कितना भी लिखा दो इनके लिए कम ही कम और आप सब जानते है आपसे छुपा क्या हैं ?
ज्यादा लिखने में फायदा भी कया है।
क्या करें सुबह सुबह लम्बी सुनकर दिमाक झन्ना गया  लिखने लगा ...........
चलो छोड़े ये सब
एक फिर आप सभी दोस्तों को पाठको को देशवासियों को कहने के लिए स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं
इसी के साथ इजाज़त   फिर मिलते हैं ....

लक्ष्य

अन्य महत्वपूर्ण लिंक

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...