सूचना

यह वेब पेज इन्टरनेट एक्सप्लोरर 6 में ठीक से दिखाई नहीं देता है तो इसे मोजिला फायर फॉक्स 3 या IE 7 या उससे ऊपर का वर्जन काम में लेवें

Wednesday, February 6, 2013

किसानों की उम्मीद, फसलें लहलाई,मालीगांव,

 हमारे जिले झुन्झुनूं में लगातार पिछले दो तीन रोज से हो रही मध्यम बारिश (मावठ) ने यहां के किसानों की उम्मीद में चार चाँद लगा दिये है आपको मालूम है जब किसान सुबह उठता है और अपने खेत की तरफ नजर फैलाता है तो चारो तरफ लहलाती अपनी फसल देखता है तो उसको कितनी खुशी होती हैं उसकी आंखों को कितनी शान्ति मिलती हैं इसका अंदाजा तो कोई कवि अपनी कल्पना में हीं लगा सकता है। इस बारिश ने फसल के लिए घी शक्कर का काम किया है।
 अतार्थ बारिश के बाद फसल में अच्छी फुटन व रंग चमक देखने को मिली है और फसल में बढ़ोतरी भी दिन दोगुनी  रात चौगुनी हो रही है।  जहां पाले रंग की चादर ओढ़े सरसों की फसल बसंत के आने का आगाज कर रही हैं वहीं गेहूँ की फसल भी पीछे नहीं है। हर किसान के मुह से यहीं सुनने को मिल रहा है कि बारिश के तो रंग ही निराले हैं समय समय पर हो रही बारिश के चलते इस बार फसल काफी अच्छी हैं हालांकि पिछले महीने कुछ प्रतिशत सरसों की फसल सर्दी के चपेट में आ गई थी
 लेकिन फिर मौसम ने सँभाल लिया उसको और हल्की बारिश करके उस मामूली हर्जाने को  भुलाने पर राजी कर दिया आपको पता है बेचारे किसान के लिए अति वृष्टि औ अनावृष्टि दोनों की घातक हैं बस किसान को चाहिए मध्यम दर्जे की बारिश


 जिस प्रकार बच्चे के जुखाम बुखार सर्दी और लूं लग जाने पर वो कुमला जाता हैं और और बचचे के मां बाप उसे देखकर बेचेन हो उठते है। और और दुःखी होते हैं उसी प्रकार फसल के मां बाप किसानों की  भी फसल को सर्दी व प्यास लगने पर वहीं हालत हो जाती हैं बेचारा उदास हो जाता है।
हो भी कैसे नहीं बेचारा खुन पसीना एक करके रातों सर्दी मर मर के उसकी रखवाली व सिंचाई करता है और  अतिवृष्टी या अनावृष्टि या सर्दी से वो एक रात में बर्बाद हो जाती हैं तो उसके जी पर क्या बीतती है ये तो खुद वो किसान ही जानता है।
 परन्तु इस बार लगता है भगवान किसान का साथ दे रहा हैं उसे समय समय पर बारिश दे रहा है और किसान की खुशहाली में चार चाँद लगा रहा है बस  किसान को अब डर है तो ये कि कहीं भगवान अब ओला वृष्टि  न कर दे नहीं तो सारी की सारी मेहनत पर पानी फिर जायेगा। तो मेरी भी भगवान से यही प्रार्थना है कि हे भगवान बेचारे किसान पर ओला वृष्टि की मार मत कर देना है वो ही तेरा सच्चा भक्त है। वो ही तरह तरह की फसलें उगाकर तेरी इस सृष्टि की रोनक बढ़ाता हैं उसे चार चाँद लगाता है।   




आपके पढ़ने लायक यहां भी है।

विदेशी सैलानियो के संग मकर संक्रांति की मस्ती,बगड़

  पतंग उड़ा रे छौरा पतंग उड़ा , लक्ष्य,मालीगांव

  कटरा से मां वैष्णो देवी के दरबार तक

लक्ष्य







अन्य महत्वपूर्ण लिंक

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...