सूचना

यह वेब पेज इन्टरनेट एक्सप्लोरर 6 में ठीक से दिखाई नहीं देता है तो इसे मोजिला फायर फॉक्स 3 या IE 7 या उससे ऊपर का वर्जन काम में लेवें

Sunday, September 29, 2013

कर्ज़ा देता मित्र को, गंजे का बाल न बांका होय

                      आधुनिक काल के दोहे...
कर्ज़ा देता मित्र को, वह मूर्ख कहलाए,
महामूर्ख वह यार है, जो पैसे लौटाए...


                                                              बिना जुर्म के पिटेगा, समझाया था तोय,
                                                  पंगा लेकर पुलिस से, साबित बचा न कोय...


गुरु पुलिस दोऊ खड़े, काके लागूं पाय,
तभी पुलिस ने गुरु के, पांव दिए तुड़वाय...


                                                   पूर्ण सफलता के लिए, दो चीज़ें रखो याद,
                                                   मंत्री की चमचागिरी, पुलिस का आशीर्वाद...

नेता को कहता गधा, शरम न तुझको आए,
कहीं गधा इस बात का, बुरा मान न जाए...


                                                       बूढ़ा बोला, वीर रस, मुझसे पढ़ा न जाए,
                                                       कहीं दांत का सैट ही, नीचे न गिर जाए...


हुल्लड़ खैनी खाइए, इससे खांसी होय,
फिर उस घर में रात को, चोर घुसे न कोय...

                                                     हुल्लड़ काले रंग पर, रंग चढ़े न कोय,
                                                     लक्स लगाकर कांबली, तेंदुलकर न होय...


बुरे समय को देखकर, गंजे तू क्यों रोय,
किसी भी हालत में तेरा, बाल न बांका होय...


फेसबुक पर विचरण करते करते मेरे एक फेसबुक मित्र (मित्र का नाम है संजय दाधीच जो हमारे बगड के ही रहने वाले है ) की टाईम लाइ्रन पर ये आधुनिक दोहे देखने को मिले अच्छे लगे आपके साथ शेयर कर रहा हूं।

आपके पढ़ने लायक यहां भी है।

गणपति आयो.. रिद्धि सिद्धि लायो बाबो..गणपति आयो.. सांस्कृतिक कार्यक्रम बगड़

 गणपति बप्पा मोरया अबके बरस तु जल्दी आ... बगड़

भक्तों के आगे झुमें (नाचे) भगवान कन्हैया और भोले शंकर,श्याम मन्दिर बगड़

  श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर्व बनाम/ (केसरिया)

ले ल्यो पट्टी बरतो पढ़णों जरूर है,लक्ष्य का स्कूल

 

लक्ष्य

अन्य महत्वपूर्ण लिंक

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...