सूचना

यह वेब पेज इन्टरनेट एक्सप्लोरर 6 में ठीक से दिखाई नहीं देता है तो इसे मोजिला फायर फॉक्स 3 या IE 7 या उससे ऊपर का वर्जन काम में लेवें

Sunday, November 11, 2012

धन-तेरस मार्केट सजावट और खरीदारी,बगड़

आप सभी को धनतेरस की हार्दिक शुभकामनाएं
 आज धन तेसर का शुभ दिन है आज के दिन लोग बाजार जाकर कुछ न कुछ नया खरीद कर लाते हैं विशेषकर बर्तन, सोना, चांदी  वगेरह आदि की खरीदारी करने के लिये बाजार आते हैं और इसके चलते बाजार में एक भीड़ भाड़ पर खुशी व उल्लास से भरा माहौल पैदा हो जाता है।

आज का सारा दिन खरीदारी में ही चला जाता हैं ऐसा माना जाता है कि आज के दिन की गई खरीदारी शुभ होती है। ऐसे मौके पर दुकानदार भाई भी ग्राहक को बुलाने या लुभावने के लिये तरह तरह के लुभावने तरीके अपनाते है। सजावट करते हैं बर्तन वगैरह दुकान से बाहर सजाकर रखते हैं आदि अलग अलग तरीके अपनाते है।  
 इसी क्रम में हमारी नगरी बगड़ भी कैसे पिछे रह सकता था यहां भी बाजार की सजावट पर बहुत जोर व जौश  देखा गया पीरामल गेट बाजार जहां मेरी दुकान है,उसके पास उमेश फ्लॉवर डेकोरेटर्स की दुकान हमारे बाजु में ही है। 
 उसके संचालक उमेश कुमार सैनी ने हमारे बाजार की दुकानो को हर वर्ष की भांति इस बार भी बहुत ही सुन्दर ढ़ग से सजाया है।यह सजावट उसकी तरफ से फ्री सजाया जाता है। क्योकि उसका काम भी वैसे सजावट का ही है।
 इसने अपनी सजावट द्वारा बाजार की रौनक को चार चाँद लगा दिये। 
 सजा हुआ मार्केट बहुत ही सुन्दर लग रहा है। आज सबसे ज्यादा भीड़ बर्तनों की दुकान पर दिखाई दे रही है।
 दुकानों के आगे सजी हुई गेलरी  दुकोनो को बहुत ही सुन्दर बना रही है।
 मेरी दुकान के पास ही बर्तनों की दुकान हैं पारूल क्रोकरी एण्ड हार्डवेयर यहा आज सबसे ज्याद भीड़ देखने को मिली।ऐसी सजावट बगड़ के बी.एल. चोक, चैराहा बस स्टेण्ड, मैन बाजार पर भी की गई है।    


 वैसे अबकी बार हमारे घर में दिपावली मनाई नहीं जा रही है क्योकि कुछ दिन पहले की मेरे पूज्य चाचाजी  श्री हरिसिंह जी का निधन हो गया था इसलिये ये दिपावली हम नहीं मना रहें हैं


रात को लाईट की जगमगाहट और सजावट की फोटो के साथ फिर हाजिर होते हैं तब तक के लिऐ इजाजत...


















आपके पढ़ने लायक यहां भी है।

कटरा से मां वैष्णो देवी के दरबार तक

वाघा (बाघा) बार्डर परेड,अमृतसर

अमृतसर, स्वर्ण मंदिर दर्शन

घुमंत् फिरत चलो मां वैष्णो देवी के दरबार

अन्दाज अपना-अपना (मानव जाति के शौकीन आधुनिक पूर्वज)

मायड़ भाषा राजस्थानी री शान बढ़ावण हाळा ब्लॉग

लक्ष्य

अन्य महत्वपूर्ण लिंक

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...