सूचना

यह वेब पेज इन्टरनेट एक्सप्लोरर 6 में ठीक से दिखाई नहीं देता है तो इसे मोजिला फायर फॉक्स 3 या IE 7 या उससे ऊपर का वर्जन काम में लेवें

Thursday, December 21, 2017

आवारा पशुओ गायो से किसान परेशान, कहाँ से आयेगा अन्न-पूर्णा रसोई का धान??


 आवारा पशु गायों से परेशान किसान
 कहाँ से आयेगा अन्न-पूर्णा रसोई का धान
आजकल किसान आवारा गायो से बहुत परेशान है जो  लगातार किसान की फ़सलो को नुकसान पहुँचा रही है रात रात जागकर रखवाली करनी पड़ रही है न तो सरकार इनका कोई इंतजाम कर रही है और न कोई ओर संस्था।  रात को 40-50 गायो का झुंड आता है और पूरी फ़सलो को रौंद कर चला जाता है  अब किसान क्या करे ? ये प्राकृतिक आपदाओं के अलावा अलग से नई आपदा कहे या विपदा आ गई है किसान के सामने पर बेचारा किसान करे तो क्या करे? इन समस्याओं के चलते अगर किसान ने अन्ततः तग आकर खेती करना छोड़ दिया तो रसोई मे चूल्हा जलाने तक की नौबत आ जायेगी।  किसान जो दिनरात मेहनत करके फ़सल उगाता है उन्हें सींचता है उनकी देखभाल करता है जिसके लिए उसे चाहे सर्दियों की मार सहनी पड़े या गर्मियों की धूप या बारिश की बौछारें खानी पड़े पर हर हालत में वो अपनी फ़सलो की सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम करता है। इसके लिए न तो कोई सरकार उसे सुरक्षा मुहैया करवाती है और न ओर कोई बीमा कम्पनी उसे ये सब खुद सहन करना पड़ता है जबकि बैंक हर KCC कार्ड धारक की हर फसल की बीमा व्यक्तिगत खाते के हिसाब से करते है ओर हर फसल के 600-700 रुपये बीमा के जोड़ देते है लेकिन अगर किसी एक खाता धारक की फसल खराब या इन आपदाओं के कारण नष्ठ हो जाये तो उसे मुवावजा नही मिलता मुवाज़े के लिए पूरी पंचयात या पर हल्के की नुकसान होने की पटवारी  रिपोर्ट पर सरकार के निर्देशानुसार मुवावजा तय करके मिलता है है तो व्यक्तिगत फसल बीमा का क्या औचित्य हुवा??? एक तो महंगे भाव के खाद बीज लेने होते है और खरपतवार अलग से ओर सरकार तो सिचाई के लिए  फ्री लाइट देना तो अलग बात है 5-6घण्टे से ज्यादा लाइट किसानों को देती ही नही है। दूसरी तरफ कुवो में घटता जल स्तर भी किसान का दुश्मन बन हुवा है।साल दर साल जल स्तर तेजी से घटता जा रहा है  और ऊपर से ये विभाग के ये मनमर्जी के बिल चुकाने पड़ रहे है
मेरा मानना है कि अगर किसान इस सभी आपदाओं के चलते अगर तंग आकर फसलें उगाना छोड़ देगा तो क्या होगा? कभी इस पर विचार किया है ?



महारानी ने अन्नपूर्णा रसोई योजना चला कर जो  उपकार दिखाया है  वो अन्न किसानों की मेहनत है और उनके द्वारा ही उपजाया हुवा ही है अगर किसान अन्न उपजाना बन्द कर देंगे तो सरकारें कहा से ये रसोई चला पाएगी? कभी सोचा है? रसोई तो दूर उनके खुद के खाने के लाले पड़ जायेंगे । अतः मेरा सरकार से कहना है सम्भल जावो ओर किसान को सुविधाएं ओर सहूलियत देना शुरू कर दो ताकि तुम्हारी रसोई अनवरत चलती रही ओर किसान की मेहनत रंग लाती रहे। "कहि फिर पछताए होत क्या जब चिड़िया चुग गई खेत" वाली कहावत सच न साबित हो जाये।
जिस दिन किसान सही मायने में अपनी पे आ गया तो
न तो रसोई में बनाने की ओर न शौचालयों में जाने जरूत पड़ेगी। इन नेताओ की नेतागिरी धरी की धरी रह जायेगी।
नेता लोगो किसान को लूट के खाना और बहकना छोड़ दो नही....
सरकार आवारा गायो के लये कोई समुचित व्यस्था करवाये।
धरती पुत्र करे पुकार  इनकी भी सुने सरकार
जय जवान    जय किसान

आपके पढ़ने लायक यहां भी है।

मां मेरे भी सर सर पे अपना हाथ रख दे

कानो सुनी को होते देख लिया बुंदिया बाबा बगड़

वाघा (बाघा) बार्डर परेड,अमृतसर

अमृतसर, स्वर्ण मंदिर दर्शन

घुमंत् फिरत चलो मां वैष्णो देवी के दरबार

अन्दाज अपना-अपना (मानव जाति के शौकीन आधुनिक पूर्वज)

मायड़ भाषा राजस्थानी री शान बढ़ावण हाळा ब्लॉग

लक्ष्य

अन्य महत्वपूर्ण लिंक

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...