सूचना

यह वेब पेज इन्टरनेट एक्सप्लोरर 6 में ठीक से दिखाई नहीं देता है तो इसे मोजिला फायर फॉक्स 3 या IE 7 या उससे ऊपर का वर्जन काम में लेवें

Monday, November 22, 2010

भूखे भक्तों को भगवान , भोजन कब पहुचाओगे


सबसे पहले पंचमुखी हनुमान जी दर्शन
आजकल स्टूडियों बुकिंग के कारण इतना नेट पर नहीं बैठ पा रहें हैं इसलिए कुछ न तो लिख पा रहें हैं और न ही कुछ पढ़ पा रहें है।
आज यूं ही बैठे बैठे एक सड़क पर पड़े किसी मैगजीन के पन्ने में लिखी कविता आगे आ गई कविता में भगवान और इंशान का वर्तमान हालात पर संवाद है। कविता मार्मिक लगी सो आपके साथ शेयर करने का मन बना लिया भावार्थ स्पष्ट हैं आपको समझने में दिक्कत नहीं आयेगी।

कितने महल गिराओगें।
तब जाकर घर पाओगे।।

सूरज को धमकाओंगे।
उजियारा हथियाओंगे।।


ढेरों पाप करोगे फिर।
आधा पुण्य कमाओगे।।

कुल अंधों की नगरी में
किसको आंख दिखाओंगे।।

जब खुद से टकराओंगे।
चूर-चूर हो जाओगे।।

राजा का दरबार हैं तुम
कैसै सच बतलाओगं।।


जग में आग लगा तो दी
अब क्या खाक उडाओगे।।

भूखे भक्तों को भगवान
भोजन कब पहुचाओगे।।


समझेगें नासमझ सभी
किस किस को समझाओंगे।।



आपके पढ़ने लायक यहां भी है।

दो दिन से दलदल में फसी गाय को बचाकर हमने पुन्य प्राप्त किया लेकिन नगरपालिका बगड़ लापरवाह

 घमसो मैया मन्दिर धौलपुर एक शेषनाग फनी पर्वत और प्...

रोडवेज बस चालक की सुजबुझ ने बचाई 30 सवारियों की जान

जितनी लम्बी सौर सुलभ हो उतने ही तो पग फैलाएं ( ज्वलन्त समस्या)

 साया :- जय मां पहाड़ा वाली जय मां शेरा वाली कर दे कोई चमत्कार,सारा जग माने तेरा उपकार

मेरी शेखावाटी - : 


साया
लक्ष्य

अन्य महत्वपूर्ण लिंक

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...