सूचना

यह वेब पेज इन्टरनेट एक्सप्लोरर 6 में ठीक से दिखाई नहीं देता है तो इसे मोजिला फायर फॉक्स 3 या IE 7 या उससे ऊपर का वर्जन काम में लेवें

Friday, March 30, 2012

बेचारा जमींदार झेल रहा सर्दी और सरकार की मार

आजकल लावनी (फसल कटाई) का समय चल रहा हैं पर इस बार बेचारा किसान जमींदार वर्ग मन मार कर (बेमन) से सरसों की फसल की कटाई का कार्य कर रहा हैं कारण है पिछले दिनों पड़ी सर्दी के कारण सरसों की फसल पूर्णतया बर्बाद हो गयी हैं सर्दी की मार इतनी तेज थी कि बड़े बड़े लगने वाले ये सरसों के खलियान बिलकुल अनाज सरसों से रहित है। इनमें कुछ भी नहीं निकल रहा है। सिवाय धोखे के और इस फसल को पालने के लिए बेचारे किसान ने दिन रात एक कर दिये और दो दिन की सर्दी ने पुरी पकी पकाई फसल को बर्बाद कर दिया किसान ने कितनी मेहन करके इस फसल की बुवाई की फिर इसे पानी से सिचा और अंत में भगवान ने ये अंजाम दिया पर वो कहावत सही हैं जब पालन हार ही रूठ जाता हैं तो कोई क्या कर सकता है। और इस सरसों को काटने के लिए मजदूरी देनी पड़ रही हैं सो अलग से। और कुछ तो सरकार ने बिजली सप्लाई घटा दी और फिर सर्दी का प्रकोप , सरकार को भी यह बात पुरी तरह पता हैं सरकार ने कहा गिरदावरी होगी और मुआवजा मिलेगा पर न तो गिरदावरी हुई और नही मुआवजा मिला बेचारा किसान वर्ग मन मार कर रह गया ।सरकार को को मुआवजा देना चाहिए था पर नहीं दिया भई सरकार हैं दे तो दे नहीं तो नहीं
अब इस वर्ग की निगाहे सिर्फ गेहूं की फसल पर टिकीं हैं कि कहीं वो बर्बाद नहीं हो जाये नहीं तो खाने के लाले पड़ सकते हैं 
वही बात हुई थाली में डालकर सामने से थाली छिन लेना भगवान की मर्जी के आगे किसकी चल सकती हैं

इस बार मावठ नहीं होने के कारण चने की फसल भी नहीं हुई हैं




सरसों के साथ साथ सर्दी की मार जौ के फसल को भी झेलनी पड़ी हैं कुछ प्रतिशत फसल जौ की भी बर्बाद हो गई है जो अब लावणी आयी हुई हैं 










आपके पढ़ने लायक यहां भी है।

  परण्या नाचण दे फागण मै काळजो बळ बळ गावे रे...

सोनू की जिद और नाहरगढ़ दर्शन,जयपुर

   

 

ये काटा वो मारा के साथ बगड़ की मकर-संक्रांति

 

 

 

नव वर्ष 2012 की हार्दिक शुभकामनाएं, मालीगांव

मेरे बाप पहले आप( लक्ष्य का बाल हट )

कड़ाके दार सर्दी घने कोहरे के साथ,मालीगांव

 

 

अन्य महत्वपूर्ण लिंक

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...