सूचना

यह वेब पेज इन्टरनेट एक्सप्लोरर 6 में ठीक से दिखाई नहीं देता है तो इसे मोजिला फायर फॉक्स 3 या IE 7 या उससे ऊपर का वर्जन काम में लेवें

Wednesday, October 16, 2013

जिले का सबसे बड़ा 51 फिट के रावण का दहन व आकर्षक आतिश बाजी,बगड़

झुन्झुनूं जिले के सबसे बड़े 51 फिट के रावण का दहन बगड़ में तिराहा बस स्टेण्ड, बगड़ के नजदीक बी.एल. ग्राउण्ड में  दुर्गा मूर्ति विसर्जन के बाद सांय 7 बजे श्री  नव दुर्गा मण्डल कमेटी, फतेह सागर तालाब बगड़ द्वारा  करवाया गया और मन को लुभाने वाली व आकर्षक आतिश बाजी व पटाखे बाजी का प्रदर्शन करवाया गया। 
जिसका भी मैंने लाईव प्रस्तुतिकरण केबल पर किया । 
 रावन की 51 फिट का पुतला श्री श्याम मन्दिर के सामने बी.एल. ग्राउण्ड में  खड़ी की गई 51 फिट का ये विशाल  रावण का पुतला दर्शकों के कोतुहल का विषय बन गई 
इस  खड़ा करने में काफी मसकत की गई तब जाकर ये खड़ी हो पाई और इसे लोहे के तारों द्वारा रोक कर खड़ा किया गया ।  मैं  आपको ये बता  दूं  इस  पूरी पटाखों से लेस रावण के पुतले का निर्माण अनवर हुसैन  जयपुर द्वारा किया गया
जिसे देखने काफी संख्या में लोग एकत्रित हुए। लोगों को 7 बजने का इंतजार था
और 7 बजते ही शुरू हुआ आकर्षक आतिश बाजी का दृश्य जो वहां उपस्थित हजारों  लोगों का मन मोह रही थी।
आतिश बाजी से आसमान रंग-बिरंग दिखाई दे रहा  था।

ये आतिशबाजी के करतब भी अनवर हुसेन द्वारा ही दिखाये गये। उन्होने ये पटाखे अपनी कला द्वारा खुद बनाये थे। उनकी सबसे प्रशंसा योग्य कला उनकी घुम चक्करी रहीं


उनकी घुमचक्री से बिखरी छटाएं ऐसे लग रही थी मानों कोई लाईटेड छोपड़ा हो या कोई वृक्ष लाईटेड कर दिया गया हो
पुरा आसमान पटाखों की आवाज व दहक से गुज रहा था
चारों तरफ वहां उपस्थित लोगों की तालियों की गड़गड़ाहट  भी गुंज रही थी सभी लोग  आतिशबाजी के करतब देखकर आश्चर्य चकित थे।

उनके द्वारा बनाये फ्वारें भी आकर्ष के केन्द्र बने हुए थे।
ये कार्यक्रम लगभग आधे घंटे तक चला  सभी लोग मंत्र मुग्ध होकर उनकी कला देख रहें थे।

और तालियां बजा बजा कर कलाकार का उत्साह वर्द्धन कर रहे थे।
उनकी कला वास्तव में ही प्रशंसा योग्य थी।

और फिर अन्त में रावण दहन की बारी आई जिसको आग लगाकर दहन किया गया ।
 आग लगाते ही रावण की बॉडी  में लगे पटाखें व राकेटों से पुरा वातावरण गुज उठा और श्री रामचन्द्र जी महाराज की जय के जयकारें चारों तरफ गुज उठे
और कुछ ही पल में बुराई का प्रतीक रावण धू धू कर जल उठा और बुराई रूपी रावण का  अंत हो गया

और चारों तरफ  अच्छाई व सच्चाई व श्रीरामजी की जय जयकार हो रही थी। 
पलभर में ये पुतला जलकर राख हो गया और लोग अपने अपने घर को लोटने लगें 
इस प्रकार से हजारों लोगों ने इस आकर्षक आतिशबाजी व रावण दहन का आनन्द उठाया तो मै आपको इससे पीछे कैसे रहने दे सकता था  इसलिए मैंने आपके साथ शेयर कर दिया मुझे तो ये बहुत ही अच्छा लगा और आपको कैसा लगा 
अगर  समय मिला तों मै आपको उस आतिशबाजी व रावण दहन का विडियों भी दिखाउगा  इसी वादे के साथ इजाज़त.....



आपके पढ़ने लायक यहां भी है।

नवरात्रा पूजा प्रारम्भ, आओ मां के द्वारे चलें..

 24 कुण्डीय गायत्री महायज्ञ की पूर्णाहुति और शिविर का समापन

गायत्री परिवार की युग सैनिक निर्माण चेतना महारैली,बगड़

 5 दिवसीय शिविर व 24 कुण्डीय गायत्री महा यज्ञ का शुभारम्भ

ले ल्यो पट्टी बरतो पढ़णों जरूर है,लक्ष्य का स्कूल

 

लक्ष्य




अन्य महत्वपूर्ण लिंक

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...